मां त्रिपुर सुंदरी मन्दिर का इतिहास

0
30

रोहित मिश्रा, विशेष संवाददाता बिलासपुर

मां त्रिपुर सुन्दरी मंदिर एक ऐसा मंदिर जो चमत्कारी मंदिर के नाम से बिलासपुर शहर के लोको कॉलोनी में स्थित हैं , इस मन्दिर का निर्माण सन 1901 में सदानंद अचारी जी द्वारा कराया गया , सन 1991 में पहली बार 3 ज्योत प्रज्वलित हुई थीं ,जो आज 1100 ज्योत मां के श्रद्धालुओं द्वारा प्रत्येक नवरात्रि में जलाई जाती हैं ,

इसकी सबसे बड़ी विशेषता है कि जिनको संतान सुख नही मिल पाता है वह यहा मन्नती मांगने पर पूरा होता है, यहा पर देश विदेश से मनोकामना ज्योति कलश प्रज्वलित की जाती है जैसे कि दिल्ली, उत्तरप्रदेश , आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल , महाराष्ट्र , उड़ीसा, बिहार, तमिलनाडु, पंजाब, मध्यप्रदेश, गुजरात, हरियाणा, राजस्थान आदि *विदेश* मे इंग्लैंड , ऑस्ट्रेलिया ,दुबई आदि स्थानों में मां के भक्त मौजूद हैं।

वर्तमान में यहां के मुख्य पुजारी श्री नागप्पा अचारी जी मां की भक्ति विगत 50 वर्षो से लगातार करते आ रहे हैं , स्थानीय लोगो द्वारा बताया जाता हैं कि मुख्य पुजारी द्वारा की गई भक्तो की पूजा हमेशा पुरी होती हैं,

मंदिर के सहायक पुजारी श्री तरुण आचारी और काशी अचारी मां की सेवा में विगत कई वर्षो से अपना योगदान दे रहे हैं मन्दिर के सहायक कार्यकर्ता गुलाब विश्वकर्मा , राजेंद्र सिंह, गणेश दास, सीनू राव आदि इस मन्दिर में अपनी विशेष सेवा विगत कई वर्षों से दे रहे हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here