प्रो .तिवारी को उच्च न्यायालय ने दिया स्थगन

0
26

शहडोल-/ मध्य प्रदेश शिक्षक कांग्रेस के संभागीय अध्यक्ष आर.पी सिंह ने बताया कि डॉ परमानंद तिवारी प्राध्यापक हिंदी शासकीय तुलसी महाविद्यालय अनूपपुर में प्रचार्य के रूप में कार्यरत हैं को राजनीतिक द्वेष बस उनका ट्रांसफर अनूपपुर से शासकीय महाविद्यालय हरसुद खंडवा कर दिया गया जो ट्रांसफर नीति के सर्वथा प्रतिकूल था इसके लिए डॉक्टर तिवारी ने माननीय उच्च न्यायालय में याचिका दायर किया विद्वान अधिवक्ता एडवोकेट राजेश तिवारी ने याचिका पर तर्क देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश सरकार आयुषी ट्रांसफर पॉलिसी के विरुद्ध आदेश जारी करती है जो न्याय संगत नहीं है इस पर तत्काल न्यायालय ने रोक लगा दी इस स्थगन आदेश से शिक्षक कांग्रेस के तमाम पदाधिकारियों ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार कर्मचारियों को अनेक प्रकार से प्रताड़ित कर रही उनके स्वाततो वेतन वृद्धिओं पदोन्नति डी ए समय पर नहीं देती बल्कि न्याय की आवाज उठाने वाले कर्म योगियों पर चाबुक चलाती रहती है प्रोफेसर तिवारी प्रदेश के व्यक्तित्व कर्मचारी नेता ही नहीं प्रतिष्ठित विद्वान एवं साहित्यकार है उनके स्तग़न से कई नेताओं ने प्रसन्नता व्यक्त की है जिसमें अख्तर हुसैन पुरुषोत्तम पटेल वीरेंद्र दुबे सुदामा तिवारी सुरेश शर्मा धड़कन के पी शर्मा ए बी शर्मा आदि शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here